चमोली के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल, Best Place For Travel To Chamoli

चमोली के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल, Best Place For Travel To Chamoli

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग की आज की नई पोस्ट में जिसमें हम बात करने वाले हैं चमोली के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थलों के बारे में इस आर्टिकल में हम आपको चमोली के बारे में भी बताने वाले हैं और चमोली के मौसम से लेकर यदि आप वहां यात्रा करते हैं तो आपको रुकने के लिए होटल्स और वहां के खान पान के बारे में पूरी जानकारी इस ब्लॉग में साधना करने वाले हैं तो इस पोस्ट को अंत जरूर पढ़ना

चमोली के बारे में , Chamoli Ke Baren Main

चमोली भारत के प्रांतीय राज्य उत्तराखंड का एक जिला है जो कि पूरे विश्व भर में अपने खूबसूरत पर्यटक स्थलों के बारे में जाना जाता है, 8030 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला चमोली जिले में आपको प्राकृतिक झरने ,मंदिर बर्फ से ढके पहाड़ ऊंची ऊंची चोटियों के साथ फूलों की घाटी के दर्शन भी हो जाएंगे, चमोली उत्तराखंड का एक ऐसा जिला है जहां सबसे ज्यादा विदेशी पर्यटक और देशी पर्यटक आया करते हैं, चमोली जिले की कुल जनसंख्या सन 2001 की जनगणना के अनुसार चार लाख के आसपास है, चमोली जिले का प्रशासनिक मुख्यालय गोपेश्वर शहर में स्थित है, और यहां अलकनंदा नदी के निकट बद्रीनाथ मार्ग पर स्थित है,
चमोली नक्शा उत्तराखंड ' चमोली चमोली मंदिर चमोली गांव उत्तराखंड भू अभिलेख जिला चमोली उत्तराखंड मुख्य शिक्षा अधिकारी चमोली खाद्य आपूर्ति विभाग चमोली गोपेश्वर मंदिर चमोली

चमोली का मौसम, Chamoli ka Mosam

चमोली एक पहाड़ी जिला होने के कारण यहां का मौसम हमेशा ठंडा बना रहता है वर्ष के मई और जून में यहां पर सबसे ज्यादा गर्मी महसूस की जा सकती है और दिसंबर जनवरी वर्ष का सबसे ठंडा महीना रहता है, गर्मियों के समय में यहां का तापमान उच्चतम 30 डिग्री के आसपास बना रहता है जबकि सर्दियों में यहां का तापमान माइनस में चला जाता है जिसके कारण यहां पर बर्फ से ढकी खूबसूरत चोटिया देखने को मिल जाती हैं, यात्रा के प्लान से पहले हम आपको बता दें कि आप मौसम के अनुकूल अपनी व्यवस्था करके आए लेकिन यह बात आपको याद रखनी चाहिए कि यहां का मौसम शाम के टाइम में काफी ठंडा रहता है इसलिए स्वेटर तो अपने साथ हमेशा रखें,

चमोली के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल, Best Place For Travel To Chamoli

  1. कागभुसांडी ताल
  2. फूलों की घाटी 
  3. रूपकुंड
  4. बद्रीनाथ मंदिर 
  5. रुद्रनाथ मंदिर
  6. विष्णुप्रयाग
  7. भीमपुल
फूलों की घाटी -
चमोली के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थलों की सूची में सबसे पहले फूलों की घाटी का नाम आता है यह एक ऐसा पर्यटक स्थल है जिसे ना केवल उत्तराखंड के लोग देखने आते हैं बल्कि देश और विदेश से यहां हर साल काफी मात्रा में पर्यटक विजिट करते हैं यही कारण है कि सन 1982 में इसे यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है, 87.50 किलोमीटर के क्षेत्र में फैले इस उद्यान में आपको 500 से भी अधिक फूलों की प्रजातियां देखने को मिल जाएंगे, यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं और आपको फूल पसंद है तो आपके लिए यह अच्छा गंतव्य होने वाला है यहां आपको हजारों की संख्या में फूल देखने को मिल जाएंगे , यहां आकर ऐसा महसूस होता है जैसा कि हम स्वर्ग में घूम रहे हो और यह सारे फूल परियों की तरह खूबसूरत दिखते हैं,
चमोली नक्शा उत्तराखंड ' चमोली चमोली मंदिर चमोली गांव उत्तराखंड भू अभिलेख जिला चमोली उत्तराखंड मुख्य शिक्षा अधिकारी चमोली खाद्य आपूर्ति विभाग चमोली गोपेश्वर मंदिर चमोली

रूपकुंड - रूपकुंड उन स्थानों में से एक है जहां पर पर्यटक अच्छी खासी मात्रा में आया करते हैं दरअसल यह एक हिम झील हैं जोकि 5029 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैं इस हिम झील मैं आपको 500 से भी अधिक मानव कंकाल देखने को मिल जाएंगे जिसके लिए यह झील आज काफी प्रसिद्ध है, बताया जाता है कि यह मानव कंकाल 12 वीं और 15 वीं सदी के आसपास के हैं, बताया जाता है कि इन मानवों की मृत्यु किसी बीमारी से नहीं बल्कि तेज आंधी और ओले के पड़ने से हुई थी, आज है स्थान इतिहास का एक रहस्य रह चुका है जिसे समझने और देखने के लिए हजारों की संख्या में यहां लोग आया करते हैं, हिमालय की गोद में बसा यह खूबसूरत झील रूपकुंड दो चोटियों के तल के पास स्थित है बताया जाता है कि प्रत्येक पतझड़ में यहां पर नंदा देवी राजजात का उत्सव मनाया जाता है, इसे देखने हजारों की संख्या में पर्यटक यहां आया करते हैं,

बद्रीनाथ मंदिर - बद्रीनाथ का मंदिर केवल चमोली जिले का ही प्रसिद्ध पर्यटक स्थल नहीं है बल्कि यहां भारत और पूरे विश्व का एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है यह चार धामों में से एक मंदिर है जोकि धार्मिक आस्था का प्रतीक के लिए जाना जाता है भगवान श्री विष्णु को समर्पित यह मंदिर समुद्र तल से 3135 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, मंदिर के निर्माण विषय में बताया जाता है कि इसका निर्माण आदिगुरु श्री शंकराचार्य ने आठवीं शताब्दी में की थी , बद्रीनाथ मंदिर उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है, मंदिर में भगवान बद्रीनारायण की 1 मीटर लंबी मूर्ति है जिसका निर्माण शालिग्राम से किया गया है, हर साल यहां पर लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है ,
चमोली नक्शा उत्तराखंड ' चमोली चमोली मंदिर चमोली गांव उत्तराखंड भू अभिलेख जिला चमोली उत्तराखंड मुख्य शिक्षा अधिकारी चमोली खाद्य आपूर्ति विभाग चमोली गोपेश्वर मंदिर चमोली

रुद्रनाथ मंदिर - भगवान शिव के लिए समर्पित यह मंदिर समुद्र तल से 36 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यह मंदिर पंच केदार तीर्थ यात्रा में जाने वाला तीसरा मंदिर है इसमें गढ़वाल मंडल के पांच शिव मंदिर शामिल, भगवान शिव जी के यहां पर नीलकंठ महादेव के रूप में पूजा की जाते हैं इस मंदिर के आसपास आपको कई तरह के जलकुंड देखने को मिल जाएंगे जोकि यहां आए श्रद्धालुओं को मनोहित करते हैं वैसे तो इस मंदिर में श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है लेकिन खासतौर पर शिवरात्रि के दिन यहां पर हजारों की संख्या में लोगों का आना जाना लगा रहता है इसके आसपास का वातावरण ऐसा है कि आपको चारों तरफ पहाड़ देखने को मिल जाएंगे और पहाड़ से चलती यहां के सुरसुरी ठंडी हवाएं मन को अंदर से तरोताजा कर देती है,

विष्णुप्रयाग - विष्णु प्रयाग पंच प्रयाग में से एक है, जिस स्थान के बारे में मान्यता है कि यहां पर भगवान श्री नारद जी ने ध्यान किया था जिसके बाद भगवान विष्णु उनके सामने प्रकट हुए, जब अलकनंदा नदी सरस्वती नदी से जुड़ती है तो बाद में यह विष्णु प्रयाग का निर्माण करती है यहां पर एक विष्णुप्रयाग जल विद्युत परियोजना भी है जिसके कारण यहां पर काफी मात्रा में पर्यटकों का आवागमन लगा रहता है, बद्रीनाथ मंदिर से थोड़ी दूरी पर स्थित होने के कारण यहां पर आसानी से पहुंचा जा सकता है विष्णुप्रयाग अपने प्राकृतिक सुंदरता के लिए काफी प्रसिद्ध है
चमोली नक्शा उत्तराखंड ' चमोली चमोली मंदिर चमोली गांव उत्तराखंड भू अभिलेख जिला चमोली उत्तराखंड मुख्य शिक्षा अधिकारी चमोली खाद्य आपूर्ति विभाग चमोली गोपेश्वर मंदिर चमोली

भीमपुल - बद्रीनाथ से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित भीमपुल तिब्बत सीमा के माणा गांव में स्थित है पर्यटकों के लिए यह एक प्रेस्टीज पर्यटक स्थल हुआ करता है चारों तरफ से पहाड़ों के बीच में बसे इस पुल को देखने का एक अलग ही खूबसूरत व्यू मिलता है दोनों तरफ से हरी घास और उसके बीच चलते लोग एक रमणीय तस्वीर प्रस्तुत करते हैं,

कागभुसांडी ताल - समुद्र तल से 6730 मीटर की ऊंचाई में बसा कागभुसांडी ताल चमोली का एक पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है कागभुसांडी ताल एक झील है जो की प्राकृतिक प्रेमियों के लिए एक अच्छी जगह हैं वसंत ऋतु के दौरान यदि आप इस झील की यात्रा करते हैं तो आपको यहां हिमालयन फूलों की कई प्रजातियां देखने को मिल जाएगी तो की इसकी तस्वीर को सुशोभित करती है इसमें आप पानी में खेले जाने वाले खेल और रिवर राफ्टिंग का मजा भी ले सकते हैं,

चमोली के बुग्याल, Chamoli Ke Bugyal

  1. फूलों की घाटी
  2. ओली
  3. रुद्रनाथ
  4. नंदकानन
  5. दुधा तोली
  6. बेदनी बुग्याल

चमोली का खानपान, Local Food of Chamoli

स्वाद के शौकीन के लिए चमोली जिले का स्थानीय खानपान बड़ा ही अच्छा रहेगा क्योंकि यहां के भोजन की व्यंजनों में जो स्वाद है वह स्वाद आपको और जगह नहीं मिलेगा क्योंकि यहां के लोग हर चीज को वह बड़े ही प्यार से बनाते हैं और इसी स्वाद को सिखा तक पहुंचाते हैं यहां के शुद्ध और घरेलू मसाले और उनके अलावा यहां की शुद्ध सब्जियां , चलो अब देख लेते हैं कि यहां के प्रसिद्ध स्थानीय भोजन के व्यंजन कौन-कौन से हैं
चमोली नक्शा उत्तराखंड ' चमोली चमोली मंदिर चमोली गांव उत्तराखंड भू अभिलेख जिला चमोली उत्तराखंड मुख्य शिक्षा अधिकारी चमोली खाद्य आपूर्ति विभाग चमोली गोपेश्वर मंदिर चमोली

मंडवे की रोटी - मंडवे कि आटे की रोटी चमोली और आसपास के जिलों का प्रसिद्ध व्यंजन है यह शुद्ध घरेलू मंडुवे के आटे से बनता है जो कि खाने में बड़ा ही स्वादिष्ट होता है और इससे हमारे शरीर को काफी मात्रा में लाभ प्राप्त होते हैं

कंडेली की भुज्जी - कंडेली की भुज्जी उत्तराखंड वासियों का प्रसिद्ध व्यंजन है इसे कंडेली के माध्यम से बनाया जाता है और यह सेम लाइक पालक की भुज्जी की तरह होता है लेकिन स्वाद में यह बड़ा ही स्वादिष्ट होता है यदि मंडुवे की रोटी और कंडेली के भुज्जी को साथ में खाया जाए तो इसके सामने सभी देसी व्यंजन फीके पड़ जाते हैं क्योंकि यह दोनों बड़े ही स्वादिष्ट होते हैं

झंगोरें की खीर - चमोली के प्रसिद्ध व्यंजन झांगोरें की खीर काफी प्रसिद्ध है यह नॉर्मल खीरे की ही तरह बनता है लेकिन इसमें चावल की जगह यहां का स्थानीय अनाज जंगूरा को मिलाकर बनाया जाता है और यही झंगोरा इसके स्वाद को 4 गुना बढ़ा देता है इसका प्रयोग आप कभी भी कर सकते हैं यदि आप चमोली ट्रिप पर है तो आपको इस व्यंजन का स्वाद जरूर लेना चाहिए

भांग की चटनी - भांग की चटनी चमोली की प्रसिद्ध चटनी है इसे भांग को पीसकर बनाया जाता है और यह बड़ा ही स्वादिष्ट होता है यदि इस चटनी में भांग की मात्रा बढ़ा दी जाती है तो इससे नशा भी लगता है क्योंकि भांग नशे के काम भी आता है इसलिए इसका उपयोग सीमित मात्रा में किया जाता है

पहाड़ी दाल भात - यह व्यंजन उत्तराखंड में पाए जाने वाले पहाड़े दलों को मिलाकर बनाया जाता है तथा इस व्यंजन के साथ नॉर्मल चावल कैसे बनता है वैसे ही बनाया जाता है लेकिन दाल काफी स्वादिष्ट होती है क्योंकि इसमें सभी पहाड़ी दाल मिक्स की होती है

अरसा - अरसा मुख्य रूप से उत्तराखंड का लोकप्रिय व्यंजन है जिसे लोग शादी के मौसम में बनाते हैं लेकिन कभी-कभी यह हर समय उपलब्ध मिल जाता है दरअसल यह चावल को पीसकर बनाया जाता है और सेम लाइक पकोड़ो की तरह इसे भी तेल में तला जाता है

चमोली में रुकने के लिए होटल, Hotels In Chamoli

दोस्तों यात्रा के दौरान आपको चमोली में यदि कुछ दिन रुक ना पड़े तो मैं आपकी सुविधा के लिए कुछ ऐसे होटल्स के नाम दे रहे हैं जो कि सस्ते भी है और वहां आपको दैनिक जीवन में काम आने वाली सभी मूलभूत सुविधाएं मिल जाएगी और इन होटलों की सबसे अच्छी खासियत यह है कि आप इन्हें ऑनलाइन बुक कर सकते हैं अपनी यात्रा के दौरान,
  1. होटल हेवेन
  2. सृष्टि लॉज
  3. होटल डबराल
  4. द तत्तवा
  5. बड्सोंग्स एंड बेयोंड
  6. होटल सचिन
Previous
Next Post »