देवप्रयाग के दर्शनीय स्थल,Devprayag ke Darshniya isthal

देवप्रयाग के दर्शनीय स्थल,Devprayag Ke Darshniya isthal

हेलो दोस्तों आज के पोस्ट में हम लाए हैं आपके लिए उत्तराखंड के एक खूबसूरत जिला देवप्रयाग के बारे में जानकारी देने वाले हैं इस पोस्ट में हम देवरिया जिले के बारे में जानेंगे और देवप्रयाग के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थलों के बारे में भी बात करने वाले हैं और साथ में हम इसी पोस्ट में हम देवप्रयाग के स्वादिष्ट स्थानीय खान पान के बारे में भी चर्चा करेंगे तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ना,

देवप्रयाग के बारे में, About to Devprayag

देवप्रयाग भारत के पर्वतीय राज्य उत्तराखंड का एक खूबसूरत जिला है जो कि अपने आप में एक तीर्थ स्थान के रूप में भी जाना जाता है यहां पर अलकनंदा तथा भागीरथी नदियों के संगम भी होता है समुद्र तल से 15 100 फीट की ऊंचाई पर स्थित देवप्रयाग एक प्रसिद्ध टूरिस्ट स्थल के रूप में भी जगह बनाया हुआ है देवप्रयाग उत्तराखंड के पंच प्रयाग में से भी एक माना जाता है देवप्रयाग नाम के पीछे बताया जाता है कि एक मान्यता के अनुसार यहां देव वर्मा नामक एक तपस्वी ने कड़ी तपस्या की थी जिसके कारण उनके नाम के स्थान पर इस जगह को देवप्रयाग कहां जाता है ऋषिकेश से देवप्रयाग 70 किलोमीटर की दूरी पर बसा है और देवप्रयाग की जनसंख्या सन 2011 की जनगणना के अनुसार 2144 है
देवप्रयाग के रहस्य देवप्रयाग का पुराना नाम देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रेट ऋषिकेश से देवप्रयाग की दूरी देवप्रयाग किस जिले में है देवप्रयाग उत्तराखंड देवप्रयाग में आकर गंगा किस नदी से मिलती है? देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रंग कैसा है देवप्रयाग का इतिहास देवप्रयाग में अलकनंदा की पानी का रेट कैसा है देवप्रयाग वीडियो

देवप्रयाग का मौसम,Devprayag weather

यदि देवप्रयाग के मौसम की बात करें तो आपको बता दें कि देवप्रयाग में साल के अधिक महीनों में यहां पर ठंडा मौसम बना रहता है और केवल मई और जून के महीने में यहां पर गर्मी महसूस होती है, दिसंबर वर्ष तक सबसे ठंडा महीना होता है जिस मैं आपको बर्फ के शानदार दृश्य देखने को मिल जाएंगे जबकि मई-जून वर्ष के अधिक गर्मी के महीने होते हैं इसमें यहां का तापमान 25 से 30 डिग्री के आसपास बना रहता है जुलाई अगस्त के महीने में मानसून शुरू हो जाती है जिसके कारण देवप्रयाग वासियों को भारी बारिश का सामना करना पड़ता है

देवप्रयाग के दर्शनीय स्थल,Devprayag Attractions

देवप्रयाग में घूमने लायक जगह की कमी नहीं है इसलिए यदि आप देवप्रयाग की यात्रा का प्लान बना रहे हैं तो आपको इन जगहों को अपनी यात्रा सूची में जरूर शामिल करना चाहिए और इसके आसपास के प्रसिद्ध दार्शनिक स्थलों के दर्शन जरूर करनी चाहिए,

चंद्र बदानी - चंद्र बदानी एक पहाड़ की चोटी है जो की समुद्र तल से 2277 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यह मंदिर कंडी खल से लगभग 10 किलोमीटर और देवप्रयाग से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है मंदिर बहुत छोटा है और यहां कोई मूर्ति ना होने के कारण पत्थर पर ही श्री यंत्र उकेरा गया है, पौराणिक कथाओं के अनुसार यहां सती का धर्म गिरा था और उनके हथियार इधर-उधर बिखर जाने के कारण आज भी बहुत संख्या में लोहे के त्रिशूल और पुरानी पुरानी मूर्तियों को इस मंदिर के चारों पढ़े हुए देखा जा सकता है , इस स्थान की सबसे खास बात यह है कि यहां से आपको शुरू करना और केदारनाथ और बद्रीनाथ की चोटियों का सुंदर दृश्य दिखाई देते हैं
देवप्रयाग के रहस्य देवप्रयाग का पुराना नाम देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रेट ऋषिकेश से देवप्रयाग की दूरी देवप्रयाग किस जिले में है देवप्रयाग उत्तराखंड देवप्रयाग में आकर गंगा किस नदी से मिलती है? देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रंग कैसा है देवप्रयाग का इतिहास देवप्रयाग में अलकनंदा की पानी का रेट कैसा है देवप्रयाग वीडियो

अलकनंदा भागीरथी संगम - देवप्रयाग आने पर आपको सबसे अच्छा महसूस कब होगा जब आप अलकनंदा और भागीरथी नदी का संगम अपने खूबसूरत आंखों से देखोगे, पंच प्रयाग में से एक देवप्रयाग में अलकनंदा और भागीरथी नदी का आपस में संगम होता है इस संगम को देखने केवल उत्तराखंड के लोग ही नहीं बल्कि देश-विदेश से पर्यटक इस खूबसूरत संगम को देखने आते हैं और अलकनंदा और भागीरथी के संगम की तस्वीरें अपने कैमरे में कैद करते हैं, नदी के किनारों से उछलता हुआ पानी और एक खूबसूरत सी आवाज आपको अंदर से मंत्रमुग्ध कर देगी, और इसी खूबसूरती को बढ़ावा देते हैं यहां के आसपास के हरे भरे सुंदर से पहाड़,
देवप्रयाग के रहस्य देवप्रयाग का पुराना नाम देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रेट ऋषिकेश से देवप्रयाग की दूरी देवप्रयाग किस जिले में है देवप्रयाग उत्तराखंड देवप्रयाग में आकर गंगा किस नदी से मिलती है? देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रंग कैसा है देवप्रयाग का इतिहास देवप्रयाग में अलकनंदा की पानी का रेट कैसा है देवप्रयाग वीडियो

रघुनाथ जी मंदिर - रघुनाथ जी का मंदिर देवप्रयाग के प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक है, इसे तिरुकांतमेनम कड़ी नगर के नाम से भी जाना जाता है भगवान विष्णु को समर्पित यह मंदिर ऋषिकेश से 73 किलोमीटर दूरी पर स्थित है, मंदिर के निर्माण विषय के बारे में बात करें तो बता दे कि मंदिर का निर्माण सातवीं शताब्दी में देउला शैली के माध्यम से किया गया है यह मंदिर अलकनंदा और भागीरथी नदियों के संगम पर ऊपर की ओर स्थित है बताया जाता है कि रघुनाथ जी ने रावण को मार कर किए गए श्राप से छुटकारा पाने के लिए इस स्थान पर तपस्या की थी, इसके बाद यहां पर मंदिर का निर्माण किया गया और आज यहां मंदिर में केवल भारत बल्कि विदेशों से आए पर्यटकों के लिए एक पर्यटक स्थल बना हुआ है,
देवप्रयाग के रहस्य देवप्रयाग का पुराना नाम देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रेट ऋषिकेश से देवप्रयाग की दूरी देवप्रयाग किस जिले में है देवप्रयाग उत्तराखंड देवप्रयाग में आकर गंगा किस नदी से मिलती है? देवप्रयाग में अलकनंदा के पानी का रंग कैसा है देवप्रयाग का इतिहास देवप्रयाग में अलकनंदा की पानी का रेट कैसा है देवप्रयाग वीडियो

देवप्रयाग का खानपान, Local Food of Devprayag

स्वाद के शौकीन के लिए देवप्रयाग जिले का स्थानीय खानपान बड़ा ही अच्छा रहेगा क्योंकि यहां के भोजन की व्यंजनों में जो स्वाद है वह स्वाद आपको और जगह नहीं मिलेगा क्योंकि यहां के लोग हर चीज को वह बड़े ही प्यार से बनाते हैं और इसी स्वाद को सिखा तक पहुंचाते हैं यहां के शुद्ध और घरेलू मसाले और उनके अलावा यहां की शुद्ध सब्जियां , चलो अब देख लेते हैं कि यहां के प्रसिद्ध स्थानीय भोजन के व्यंजन कौन-कौन से हैं

मंडवे की रोटी - मंडवे कि आटे की रोटी देवप्रयाग और आसपास के जिलों का प्रसिद्ध व्यंजन है यह शुद्ध घरेलू मंडुवे के आटे से बनता है जो कि खाने में बड़ा ही स्वादिष्ट होता है और इससे हमारे शरीर को काफी मात्रा में लाभ प्राप्त होते हैं

कंडेली की भुज्जी - कंडेली की भुज्जी उत्तराखंड वासियों का प्रसिद्ध व्यंजन है इसे कंडेली के माध्यम से बनाया जाता है और यह सेम लाइक पालक की भुज्जी की तरह होता है लेकिन स्वाद में यह बड़ा ही स्वादिष्ट होता है यदि मंडुवे की रोटी और कंडेली के भुज्जी को साथ में खाया जाए तो इसके सामने सभी देसी व्यंजन फीके पड़ जाते हैं क्योंकि यह दोनों बड़े ही स्वादिष्ट होते हैं

झंगोरें की खीर - रुद्रप्रयाग के प्रसिद्ध व्यंजन झांगोरें की खीर काफी प्रसिद्ध है यह नॉर्मल खीरे की ही तरह बनता है लेकिन इसमें चावल की जगह यहां का स्थानीय अनाज जंगूरा को मिलाकर बनाया जाता है और यही झंगोरा इसके स्वाद को 4 गुना बढ़ा देता है इसका प्रयोग आप कभी भी कर सकते हैं यदि आप देवप्रयाग ट्रिप पर है तो आपको इस व्यंजन का स्वाद जरूर लेना चाहिए

भांग की चटनी - भांग की चटनी देवप्रयाग की प्रसिद्ध चटनी है इसे भांग को पीसकर बनाया जाता है और यह बड़ा ही स्वादिष्ट होता है यदि इस चटनी में भांग की मात्रा बढ़ा दी जाती है तो इससे नशा भी लगता है क्योंकि भांग नशे के काम भी आता है इसलिए इसका उपयोग सीमित मात्रा में किया जाता है

पहाड़ी दाल भात - यह व्यंजन उत्तराखंड में पाए जाने वाले पहाड़े दलों को मिलाकर बनाया जाता है तथा इस व्यंजन के साथ नॉर्मल चावल कैसे बनता है वैसे ही बनाया जाता है लेकिन दाल काफी स्वादिष्ट होती है क्योंकि इसमें सभी पहाड़ी दाल मिक्स की होती है

अरसा - अरसा मुख्य रूप से उत्तराखंड का लोकप्रिय व्यंजन है जिसे लोग शादी के मौसम में बनाते हैं लेकिन कभी-कभी यह हर समय उपलब्ध मिल जाता है दरअसल यह चावल को पीसकर बनाया जाता है और सेम लाइक पकोड़ो की तरह इसे भी तेल में तला जाता है

देव प्रयाग में रुकने के लिए होटल,Hotels to stay in Dev Prayag

यदि आपको देवप्रयाग की यात्रा के दौरान आपको कुछ दिन वहां रुकना पड़े तो हम आपकी सुविधा के लिए कुछ सस्ते होटल के नाम बता देते हैं जिनकी आप ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं और आपको वहां दैनिक जीवन में काम आने वाले सभी मूलभूत सुविधाएं मिल जाएगी तो आप इन होटलों में रुकना बिल्कुल भी ना भूले

  1. राम कुंड रिजॉर्ट
  2. बी एस आर फर्म्स होमस्टे
  3. होटल चाकशा गोविंद
  4. होटल देव
  5. यदुवंशी शिवा होटल
  6. मुमुक्षु रिजॉर्ट

Previous
Next Post »